अडूसा के फायदे | Adusa ke fayde | vasaka ke fayde |

5:41 pm / staff / 0 comments
Category:
LIVER DISEASES

यहां हम आपको अडूसा के फायदे के बारे में जानकारी दे रहे हैं। उम्मीद है कि यह लेख आपके लिए ज्ञान वर्धक साबित होगा। तो आइए शुरूआत करते हैं-

वसाका या अडूसा का परिचय:

वसाका या अडूसा एक द्विबीजपत्री झाड़ीदार पौधा है। इसकी पत्तियाँ लम्बी होती हैं और तनों की पर्वसन्धियों पर सम्मुख क्रम में सजी रहती हैं। इसके फूल का रंग सफेद एवं पुष्पमंजरी गुच्छेदार होती है। यह एक औषधिय पौधा है। इसका उपयोग विभिन्न प्रकार की दवाइयों को बनाने में किया जाता है। खांसी और अन्य रोगों में इसके सेवन से बहुत फायदा पहुंचता है। आयुर्वेदिक एवं होम्योपैथिक दवाईयां बनाने में इस पौधे का इस्तेमाल होता है। औषधियाँ इसकी पत्तियों एवं जड़ों से तैयार की जाती है।

वसाका या अडूसा के फायदे (Adusa ya Vasaka ke fayde):

adusa ke fayde1

निम्नलिखित बीमारियो में अडूसा के उपयोग को बताया जा रहा है:

  • लिवर के लिए अडूसा के फायदे

लिवर को स्वस्थ रखने के लिए भी अडूसा का सेवन किया जा सकता है। अडूसा में मौजूद मुख्य घटक इथाइल एसीटेट में हेपाटोप्रोटेक्टिव (लिवर को नुकसान से बचाने वाला) गतिविधि की पुष्टि हुई है ऐसे में लिवर को स्वस्थ रखने के लिए व्यक्ति अडूसा का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए इसके पाउडर को पानी या दूध से लिया जा सकता है।

  • आंखों के लिए भी है बहुत फायदेमंद:

अडूसा के 2 से 4 ताजे फूलों को पानी में गर्म करके आंखों पर कुछ देर के लिए रखें. ऐसा करने से आंखों की सूजन ठीक होगी। इसके अलावा आंखों के लाल होने की समस्या भी दूर हो जाती है इससे आंखों को ठंडक मिलती है व रोशनी बढ़ती है।

  • मधुमेह के लिए अडूसा के फायदे

मधुमेह की समस्या हमारे देश में बहुत तेजी से बढ़ रही है ऐसे में मधुमेह से बचाव के लिए खानपान का खास ध्यान रखना जरूरी है। मधुमेह की बीमारी से बचाव के लिए अडूसा एक उपयोगी औषधि की तरह काम करता है अडूसा में एंटी-डायबिटिक गुण मौजूद पाये जाते हैं, जो रक्त शर्करा को कम कर डायबिटीज की परेशानी में लाभदायक हो सकते हैं । इसका अधिक उपयोग नहीं करना चाहिए नहीं तो यह ब्लड शुगर को बहुत कम भी कर सकता है।

  • सर्दी-जुकाम के लिए अडूसा के फायदे

यह सर्दी-जुकाम के लिए भी लाभकारी होता है। अडूसा में एंटी-एलर्जिक गुण मौजूद होते हैं। सर्दी को दूर करने वाले और कफ से बचाव वाले गुण भी मौजूद होते हैं, जो सर्दी–जुकाम से बचाव में सहायक होते हैं। सर्दी–जुकाम में इसके चूर्ण का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद होता है।

  • मुंह के छालों दूर करने में सहायक:

इसके लिए अडूसा के दो से तीन पत्तों को चबाकर उसके रस को चूसने से छाले ठीक होते हैं। चबाए हुए पत्तों का रस चूसकर थूक देना चाहिए।

  • दांतों और मसूड़ों के दर्द में फायदेमंद है अडूसा:

अडूसा की लकड़ी से दातुन करने से दांतों और मसूड़ों की समस्या ठीक हो जाती है इससे नियमित दातुन किया जाए तो दांतों व मसूड़ों के दर्द में राहत मिलेगी। दांत मजबूत होते हैं और दांतों से पीलापन भी दूर हो जाता है।

  • सूजन के लिए अडूसा के लाभ

अडूसा सूजन की समस्या के लिए भी लाभकारी होता है। दरअसल, अडूसा में एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण मौजूद होता है इसलिए यह सूजन के कारण होने वाली समस्याओं से बचाव करने में फायदेमंद होता है।

  • मूत्र दोष की समस्या में फायदेमंद:

जिन लोगों को पेशाब ठीक से नहीं आती है या फिर उन्हें बार-बार जाना पड़ता है। इसके लिए खरबूजे के 10 ग्राम बीज और अडूसा के 10 ग्राम पत्ते लेकर अच्छी तरह पीसकर खाने से इस समस्या से छुटकारा मिलेगा।

  • मांसपेशियों का दर्द दूर करने में सहायक:

अडूसा के पत्तों के रस में तिल के तेल को मिलाकर शरीर में दर्द वाले स्थान पर मालिश करने से हाथ पैर की ऐंठन ठीक होती है, साथ ही मांसपेशियों को आराम मिलता है।

  • अल्सर के लिए अडूसा के फायदे

पेट में अल्सर की समस्या बैक्टीरिया, तनाव, शराब का सेवन, मसालेदार खाना या अन्य कई कारणों से हो सकती है । ऐसे में इससे बचाव के लिए अडूसा फायदेमंद होता है। दरअसल, अडूसा के पत्तों में एंटीअल्सर गतिविधि पाई जाती है । इसके लिए इसके पाउडर का इस्तेमाल किया जा सकता है।

  • श्वास सम्बंधित परेशानी दूर करने में सहायक:

अडूसा के ताजे पत्तों का रस निकाल के इसमें शहद मिलाकर चाटने से खांसी और सांस संबंधित समस्याएं ठीक होती हैं।

  • खांसी दूर करने में फायदेमंद:

सूखी खांसी दूर करने के लिए अडूसा के पत्ते, मुनक्का और मिश्री का काढ़ा दिन में तीन से चार बार पीने से सूखी खांसी ठीक होती है।

  • त्वचा के लिए अडूसा के फायदे

अडूसा त्वचा के लिए भी फायदेमंद होता है। त्वचा संबंधी समस्याओं में अडूसा के पत्ते के फायदे हो सकते हैं। अडूसा की पत्तियों का लेप घाव पर लगाया जा सकता है तथा अडूसा की पत्तियों का काढ़ा स्केबीज (त्वचा संबंधी संक्रामक रोग) और अन्य त्वचा संबंधी समस्याओं के लिए लाभकारी हो सकता है ।

  • सिर दर्द दूर सकता है अडूसा

सिर दर्द की समस्या को दूर करने के लिए अडूसा के फूल का इस्तेमाल किया जाता है. इसके लिए अडूसा के फूलों को सुखाकर इसके 10 ग्राम चूर्ण के साथ गुड़ मिलाकर चार पांच बार दो दो तीन तीन घंटे के अंतराल पर लें, इससे तुरंत लाभ होता है।

  • माहवारी या मासिक धर्म में सहायक:

महिलाओं के मासिक धर्म में अनियमितता को ठीक करने के लिए अडूसा के 10 ग्राम पत्ते, मूली और गाजर के बीज 5-6 ग्राम लेकर आधा लीटर पानी में उबालें। जब यह पानी एक चौथाई शेष रह जाए तो यह काढ़ा पीने से मासिक धर्म की समस्याएं ठीक होंगी  साथ ही अत्यधिक रक्तस्राव की समस्या भी दूर होती है।

  • फोड़ा फुंसियां दूर करने में फायदेमंद:

शरीर पर फोड़े-फुंसी होने पर अडूसा के पत्तों को पानी के साथ पीसकर घाव पर लगाने से फायदा मिलता है।

 

आइए अब जानते हैं अडूसा का इस्‍तेमाल कैसे किया जा सकता है?

अडूसा का सेवन कैसे करें –

अडूसा का सेवन नीचे बताए गए तरीकों से किया जा सकता है:

  1. अडूसा के चूर्ण का सेवन कर सकते हैं।
  2. अडूसा के रस का सेवन कर सकते हैं।
  3. अडूसा के पत्ते के फायदे हो सकते हैं। ऐसे में, अडूसा के पत्तों के रस का भी सेवन किया जा सकता है।
  4. बाजार में अडूसा का टॉनिक भी उपलब्ध है, अडूसा के टॉनिक का सेवन भी कर सकते हैं।

इसका इस्तेमाल करने में कुछ सावधानियों का ध्यान रखना चाहिए:

  1. अगर किसी को लो ब्लड शुगर की समस्या है, तो वो अडूसा से परहेज करें।
  2. अडूसा का सेवन बच्चों को न कराएं।
  • फूड एलर्जी है, तो इसके सेवन से परहेज करें।
  1. अडूसा के अधिक सेवन से उल्टी की समस्या हो सकती है।
  2. गर्भवती और स्तनपान कराने वाली माताएं इसका सेवन न करें।

Adusa Extract capsules | Ayurvedic Adusa Extract capsules | benefits of Adusa | Adusa For Liver Diseases | Liver disorders | Liver Tonic |