गोक्षुरक या गोखरू के फायदे | Gokshurak ya Gokhru ke fayde | benefits of Gokshurak or Gokhru |

12:41 pm / staff / 0 comments
Category:
Gokshurak ya Gokhru, Sexual Health

यहां हम आपको गोक्षुरक या गोखरू के फायदे के बारे में जानकारी दे रहे हैं। उम्मीद है कि यह लेख आपके लिए ज्ञान वर्धक साबित होगा। तो आइए शुरूआत करते हैं-

 

गोक्षुरक या गोखरू का परिचय:

गोखरू या ‘गोक्षुर’ (Tribulus terrestris, Land caltrops, Puncture vine) भूमि पर फ़ैलने वाला छोटा प्रसरणशील क्षुप है जो कि आषाढ़ और श्रावण मास मे प्राय उग जाता है। इसके पत्ते खंडित और फूल पीले रंग के होते हैं, फल कांटे युक्त होते हैं उत्तर भारत के कई राज्यों मे, हरियाणा में, राजस्थान मे यह बहुतायत में मिलता है।

इसमें छोटे आकार के कड़े और कँटीले फल लगते हैं। ये फल औषधि के रूप में काम में लिए जाते हैं और वैद्यक में इन्हें शीतल, मधुर, पुष्ट, रसायन, दीपन और काश माना गया है।

गोक्षुरक या गोखरू के फायदे(Gokshurak ya Gokhru ke fayde):

गोक्षुरक या गोखरू के फायदे

पाचन शक्ति बढ़ाने में गोखरू के फायदे (Gokhru Kadha Beneficial in Digestion):

गोखरू का काढ़ा पीने से पाचनशक्ति कमजोर है बढ़ती है। गोखरू का काढ़ा थोड़ा-थोड़ा पीने से पाचन-शक्ति बढ़ती है। इस तरह गोखरू का उपयोग बहुत ही फायदेमंद है। 

 उम्र बढ़ने को संकेतों को धीमा करे:

यह उम्र बढ़ने के लक्षणों और संकेतों को धीमा करती है। यह शरीर और त्वचा को फिर से जीवंत करती है जिससे उम्र कम दिखती है। यह झुर्रियों और अन्य उम्र बढ़ने के संकेतों को नियंत्रित करने में मदद करती है।

मानसिक स्वास्थ्य के लाभकारी है (Gokshura or Gokhru Benefits in mental health):

गोक्षुर शारीरिक और मानसिक राहत के रूप में शरीर में सेरोटोनिन हार्मोन को नियंत्रित करते हैं। इसके सेवन से सिरदर्द व तनाव से राहत में मदद मिलती है।

टेस्टोस्टेरोन बूस्टर (Gokshura or Gokhru as a testosterone booster):

यह जड़ी बूटी टेस्टोस्टेरोन हार्मोन बूस्टर के रूप भी जानी जाती है। क्योंकि यह प्राकृतिक रूप से पुरुष हार्मोन बूस्टर के लिए बड़े पैमाने पर उपयोग की जाती है। यह पुरुष कामेच्छा, स्तंभन दोष आदि से जूझ रहे और अन्य पुरुष संबंधित बीमारियो में लाभकारी है। यह जड़ी बूटी पुरुषों में प्रजनन क्षमता को बढ़ावा देती है।

लो स्पर्म काउन्ट में फायदेमंद गोखरू (Gokshura or Gokhru Benefits to Boost Low Sperm Count)

अगर स्पर्म काउन्ट कम होने के कारण आपके पिता बनने में समस्या उत्पन्न हो रही है तो 10 ग्राम गोखरू एवं 10 ग्राम शतावर को 250 मिली दूध के साथ उबालकर पीने से स्पर्म का काउन्ट और क्वालिटी बढ़ती है तथा शरीर को ऊर्जा और ताकत मिलती है।

हृदय संबंधी समस्याओं मे गोखरू के फायदे (Gokshura or Gokhru Benefits in heart related diseases):

यह जड़ी बूटी आपके हृदय के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में भी मदद करती है। गोक्षुर के सेवन से ह्रदय की बीमारियों की संभावना को कम हो जाती है और यह कोलेस्ट्रॉल, ब्लड शुगर और रक्त चाप को भी कम करता है।

महिलाओं के बांझपन के इलाज में (Gokshura or Gokhru Benefits in childlessness disease of women):

महिलाओं में बांझपन का मुख्य कारण पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) है। गोक्षुर बांझपन की संभावना को रोकने के लिए वॉटर रिटेंशन को रोकने में मदद करता है। इसके अलावा, और यह मासिक धर्म के दर्द को भी कम करता है और महिलाओं में माहवारी के लक्षणों को कम करता है।

सिरदर्द में गोखरू के फायदे (Gokshura benefits to get relief from Headache)

10-20 मिली गोखरू काढ़ा (Gokhru kadha) को सुबह-शाम पिलाने से पित्त के बढ़ जाने के कारण जो सिर दर्द होता है उससे आराम मिलता है।

पेशाब संबंधी बीमारी में गोखरू के फायदे (Benefits of Gokhru in Dysuria):

मूत्र करते समय दर्द और जलन, रुक-रुक पेशाब आना, कम पेशाब आना आदि। ऐसे समस्याओं में गोखरू बहुत फायदेमंद है। 2 ग्राम गोखरू चूर्ण में 2 काली मिर्च और 15 ग्राम मिश्री का पूरे दिन में तीन चार बार सेवन करने से सभी पेशाब सम्बंधित समस्याओं में लाभ होता है।

पथरी में गोखरू के फायदे (Gokshura Benefits in Kidney Stone):

2-3 ग्राम गोखरू चूर्ण, 1 चम्मच शहद ,200 मिली दूध पीने से धीरे धीरे पथरी की समस्या सही हो जाती है।

दमा में गोखरू के फायदे (Gokshura Benefits in Asthma)

2-2ग्राम गोक्षुर तथा अश्वगंधा चूर्ण में 2 चम्मच शहद मिलाकर दिन में दो बार 250 मिली दूध के साथ सेवन करने से सांस संबंधी समस्या धीरे धीरे हो जाती है।

गर्भाशय या यूटेरस के दर्द में गोखरू के फायदे (Benefits of Gokshura in Uteralgia):

गर्भाशय में दर्द होने पर 5 ग्राम गोखरू फल, 5 ग्राम किशमिश और दो ग्राम मुलेठी इनको पीसकर सुबह शाम दूध या पानी के साथ सेवन करने से गर्भाशय के दर्द से राहत मिलती है।

जोडों के दर्द में गोखरू के फायदे (Uses of Gokhru or Gokshura to Treat Rheumatism):

जोड़ो में दर्द होने पर गोखरू फल में समान भाग सोंठ चतुर्थांश का काढ़ा बनाकर सुबह एवं रात में सेवन करने से कमर दर्द, जोड़ो के दर्द आदि दर्द में आराम पहुंचता है।

चर्मरोग में गोखरू के फायदे (Gokhru or Gokshura Benefits for Skin Disease in Hindi):

गोखुर फल को पानी में पीसकर त्वचा में लेप तैयार कर लें और इसे खुजली, दाद आदि त्वचा संबंधी रोगों में इस्तेमाल कर सकते है।

बुखार में गोखरू के फायदे (Benefits of Gokhru in fever)

बुखार की समस्या से निजात पाने में भी गोखरू फायदेमंद होता है 10 ग्राम गोखरू पञ्चाङ्ग को 250 मिली जल में उबालकर, काढ़ा बनाकर इसे तीन चार बार पीने से बुखार जल्दी ठीक हो जाता है। गोखरू पञ्चाङ्ग चूर्ण बाजार से आप खरीद भी सकते है।

कान-नाक से खून बहना में गोखरू के फायदे:

रक्तपित्त की समस्या से बचने के लिए 5 ग्राम गोखुर पाउडर को 200 मिली दूध में उबालकर पीने से रक्तपित्त सही हो जाता है।

मूत्रवर्धक गुण:

मूत्राशय को साफ करके मूत्र रोगों के उपचार में गोखरू बहुत लाभकारी है। गोक्षुर या गोखरू के लिथोट्रिप्टिक गुण ऐसा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है।

Relibond 1000 Mg Tablet | Men’s Health Enhancement Tablets | Best Ayurvedic Medicine for Longer and Harder Size