मुलेठी के फायदे | mulethi ke fayde | benefits of Mulethi |

5:50 pm / staff / 0 comments
Category:
LIVER DISEASES

यहां हम आपको “मुलेठी के फायदे”के संदर्भ में जानकारी दे रहे हैं। उम्मीद है कि यह लेख आपके लिए ज्ञानवर्धक साबित होगा। तो आइए शुरूआत करते हैं–

मुलेठी का परिचय (Introduction of Mulethi)

मुलहठी या मुलेठी एक झाड़ीनुमा पौधा होता है। इसमें गुलाबी और जामुनी रंग के फूल होते है। इसके फल लम्‍बे चपटे तथा कांटे होते है। इसकी पत्तियाँ सयुक्‍त होती है। मूल जड़ों से छोटी-छोटी जडे निकलती है। इसकी खेती पूरे भारतवर्ष में होती है। मुलहठी एक प्रसिद्ध और सर्वसुलभ जड़ी है। जड़ें गोल-लंबी झुर्रीदार तथा फैली हुई होती हैं। जड़ व काण्ड(तना) से कई शाखाएँ निकलती हैं। पत्तियाँ संयुक्त व अण्डाकार होती हैं, जिनके अग्रभाग नुकीले होते हैं। फली बारीक छोटी ढाई सेण्टीमीटर लंबी चपटी होती है जिसमें दो से लेकर पाँच तक वृक्काकार बीज होते हैं। इस वृक्ष का भूमिगत तना (काण्ड) तथा जड़ सुखाकर छिलका हटाकर या छिलके सहित अंग प्रयुक्त होता है। सामान्यतः मुलहठी ऊँचाई वाले स्थानों पर ही होती है।

 

मुलेठी क्या है? (What is Mulethi in Hindi?)

मुलेठी एक झाड़ीनुमा पौधा होता है। आमतौर पर इसी पौधे के तने को छाल सहित सुखाकर उसका उपयोग किया जाता है। इसके तने में कई औषधीय गुण होते हैं। इसका स्वाद मीठा होता है

mulethi ke fayde11

मुलेठी के फायदे (Benefits of Mulethi)

शरीर को बल देती है मुलेठी: (Mulethi benefits in giving power to body in Hindi)

यह शरीर को बल देती है इसके लिए 2-3 ग्राम मुलेठी चूर्ण में 5-8 ग्राम मिश्री पाउडर मिलाकर दूध या पानी के साथ सेवन कर सकते हैं। खाना खाने के आधा घंटा बाद ये तरीका अपनाएं।

 

कफ दूर करने में फायदेमंद है मुलेठी: (Mulethi benefits in removing cough or gum in Hindi)

बढ़े हुए कफ से गला, नाक, छाती में जलन हो जाने जैसी अनुभूति होती है, तब मुलेठी को शहद में मिलाकर चटाने से बहुत फायदा होता है।

 

दिमाग को तेज करती है मुलेठी: (Mulethi benefits in sharpness of mind in Hindi)

मुलेठी बुद्धि को भी तेज करती है। अतः छोटे बच्चों के लिए इसका उपयोग नियमित रूप से कर सकते हैं इसके लिए 2-3 ग्राम मुलेठी चूर्ण में 5-8ग्राम मिश्री मिलाकर दूध या पानी के साथ सेवन कर सकते हैं।

 

कब्ज में आरामदायक होती है मुलेठी: (Mulethi benefits in constipation in Hindi)

पाचन के विकारों में इसके चूर्ण को इस्तेमाल किया जाता है इसके लिए 2-3 ग्राम मुलेठी चूर्ण में 5 ग्राम मिश्री मिलाकर दूध या पानी के साथ सेवन कर सकते हैं या मुलेठी चूर्ण को शहद मिलाकर चाट सकते हैं।

 

पेट दर्द में आरामदायक हैं मुलेठी: (Mulethi benefits in Stomach pain in Hindi)

कई बार लोगों के पेट में दर्द होता है, उस समय मुलेठी को पत्थर पर घिसकर पानी या दूध के साथ पिलाने से पेटदर्द शांत हो जाता है या इसके लिए 2-3 ग्राम मुलेठी चूर्ण में 5 ग्राम मिश्री मिलाकर दूध या पानी के साथ सेवन कर सकते हैं।

 

एसिडिटी में भी मुलेठी है फायदेमंद: (Mulethi benefits in Acidity in Hindi)

मुलेठी से पित्त का नाश होता है। आमाशय की बढ़ी हुई अम्लता एवं अम्लपित्त(Acidity) जैसी परेशानी में मुलेठी काफी उपयुक्त है। इसके लिए 2-3 ग्राम मुलेठी चूर्ण में 5 ग्राम मिश्री मिलाकर दूध या पानी के साथ सेवन कर सकते हैं।

 

पेट के अल्सर में फायदेमंद है मुलेठी: (Mulethi benefits in heal the ulcers in Hindi)

आमाशय के अंदर हुए व्रण (अल्सर) को मिटाने के लिए एवं पित्तवृद्धि को शांत करने के लिए मुलेठी का उपयोग होता है। मुलहठी को मिलाकर पकाए गए घी का प्रयोग करने से अलसर मिटता है।

 

फेफड़ों से संबंधित रोगों में फायदेमंद है मुलेठी: (Mulethi benefits in diseases of liver in Hindi)

यह खांसी, दमा, टीबी एवं स्वरभेद (आवाज बदल जाना) आदि फेफड़ों की बीमारियों में बहुत ही लाभदायक है।1 चम्मच मुलेठी पाउडर को शहद में मिलाकर खाने या चाटने से लाभ होता है।

 

बुखार और कफ में फायदेमंद है मुलेठी: (Mulethi benefits in fever and cough in Hindi)

कफ और बुखार भी इसका प्रयोग किया जाता है। इसके लिए मुलेठी का एक छोटा टुकड़ा मुंह में रखकर चबाने से भी फायदा होता है।

 

पेशाब या यूरिन में जलन: (Mulethi benefits in urine problem in Hindi)

पेशाब की जलन मुलेठी के सेवन से कम होती है और पेशाब की रुकावट दूर होती है। इसके लिए 2-3 ग्राम मुलेठी चूर्ण में 5 ग्राम मिश्री मिलाकर दूध या पानी के साथ सेवन कर सकते हैं।

 

ज़ख्म भरने में विशेष है मुलेठी: (Mulethi benefits in diseases of liver in Hindi)

शरीर के भीतरी एवं बाहरी जख्मों को जल्दी भरता है, अतः जहां पर जख्म से रक्तस्राव होता है, उस पर मुलेठी का उपयोग फायदेमंद होता है। भीतरी जख्म के लिए 2-3 ग्राम मुलेठी चूर्ण में 5 ग्राम मिश्री मिलाकर दूध या पानी के साथ सेवन कर सकते हैं। बाहरी जख्मों के लिए मुलेठी का लेप करें।

 

गुदा रक्तस्राव की समस्या में फायदेमंद है मुलेठी: (Mulethi benefits in diseases of liver in Hindi)

मुलेठी के चूर्ण के सेवन से गुदा से होनेवाला रक्तस्राव, वह चाहे जिस वजह से हो, बंद हो जाता है। जख्मों पर भी मुलेठी का लेप करें। इससे रक्तस्राव रुक जाता है और जख्म ठीक हो जाता है।

 

त्वचा रोगों में लाभकारी है मुलेठी: (Mulethi benefits in Skin diseases in Hindi)

त्वचा रोगों में भी मुलेठी लाभकारी है। चेहरे के मुंहासों को दूर करने के लिए मुलहठी का लेप बनाकर इस्तेमाल किया जाता है। इससे त्वचा का रंग निखर आता है, त्वचा की जलन और सूजन दूर होती है।

 

मुलेठी के फायदे सेक्स क्षमता बढ़ाने में (Mulethi improves Sex power in Hindi)

मुलेठी में कामोत्तेजक गुण पाए जाते हैं। जिन लोगों की सेक्स की इच्छा में कमी होती है उन्हें इसका सेवन करना चाहिए। इसके लिए 2-4 ग्राम मुलेठी चूर्ण में घी और शहद मिलाकर दूध के साथ पीने से कामोत्तेजना और सेक्स क्षमता में बढ़ोतरी होती है।

 

मुलेठी बालों को झड़ने और सफ़ेद होने से रोक में फायदेमंद है (Mulethi controls premature hair greying and hair falling in Hindi)

बाल सफ़ेद होना एक आम समस्या है और आज कल ज्यादातर लोग बाल समय से पहले सफ़ेद होने से परेशान रहते हैं। मुलेठी के उपयोग (mulethi ke fayde) से आप बालों को झड़ने और सफ़ेद होने से रोक सकते हैं। इसके लिए 50ग्राम मुलेठी कल्क, 750 मिली आंवला स्वरस और 750 मिली तिल के तेल को मिलाकर पाक बना लें। नियमित रूप से इस तेल पाक की 1-2 बूँद नाक में डालने से असमय बाल सफ़ेद नहीं होते और बालों का झड़ना भी कम होता है। मुलेठी का उपयोग बालों को सही पोषण देने और बढ़ाने में भी किया जाता है। मुलेठी के क्वाथ से बालों को धोने से बालों तेजी से बढ़ते हैं। इसी तरह मुलेठी और तिल को भैंस के दूध में पीसकर सिर पर लेप लगाने से बालों का झड़ना बंद हो जाता है।

mulethy ke fayde3

Mulethi For Fatty Liver | Mulethi in Liver diseases | Mulethi in Digestion | Cholesterol Levels | Glycyrrhiza Glabra herbs|