रेवंदचीनी के फायदे | रेवंदचीनी के फायदे | Revandchini ke fayde | benefits of Rheum emodi |

3:44 pm / staff / 0 comments
Category:
LIVER DISEASES

यहां हम आपको रेवंदचीनी के फायदे के बारे में जानकारी दे रहे हैं। उम्मीद है कि यह लेख आपके लिए ज्ञान वर्धक साबित होगा। तो आइए शुरूआत करते हैं-

रेवंदचीनी का परिचय (Introduction of Revanchini):

रेवंदचीनी या रेवातिका स्वाद में कड़वी और तीखी होती है। इसकी तासीर ठंडी होती है। रेवंदचीनी एक पहाड़ी वनस्पति है, जिसकी जड़ विभिन्न प्रकार के रोगों की दवाई बनाने के लिए इस्तेमाल की जाती है। रेवंदचीनी की जड़ सख्त लकड़ी जैसी और मोटी और भूरे पीले रंग की होती है। इसकी जड़ का कोई निश्चित आकार नहीं होता है। रेवंदचीनी हिमालयी वनों में पायी जाने वाली औषधि है। रेवंदचीनी एक सदाबहार पौधा है, जो नाटे व मोटे प्रकंद से बढ़ता है। इन पौधों के पत्ते बड़े कुछ त्रिकोणीय आकार के होते हैं साथ ही पर्णवृंत लंबा और मांसल होता है। फूल छोटे और सफेद हरा से गुलाबी-लाल, रंग के होते हैं, और इनका फूल पत्तेदार समूह मे होता है। इसकी विभिन्न प्रजातियों की खेती औषधीय और मानव उपभोग के लिए की जाती है। इसकी पत्तियां जहरीली होती हैं, पर इसका डंठल अपने तीखे स्वाद के चलते “पाई” जैसी मिठाई बनाने मे भी काम आता है।

रेवंदचीनी का केवल जड़ को औषधि के रूप में प्रयोग कर सकते हैं। इसके जड़ के प्रयोग के विभिन्न तरीके बताये जा रहे हैं।

Revandchini ke fayde1

रेवंदचीनी के फायदे-

लीवर को स्वस्थ बनाये रखने में रेवंदचीनी के फायदे (Revandchini beneficial in Liver diseases in Hindi):

रेवंद चीनी का प्रयोग लीवर को स्वस्थ बनाये रखने में किया जाता है जिससे ये पाचन शक्ति को बल देता है और भूख को भी बढ़ाता है। इसके लिए रेवंदचीनी का पाउडर दूध के साथ सेवन करना चाहिए।

बुखार खत्म करने में फायदेमंद रेवंदचीनी (Benefits of Revandchini to Treat the Fever in Hindi)

रेवंद चीनी का प्रयोग बुखार को कम करने में किया जाता है क्योंकि रेवंद चीनी में बुखार को कम करने के गुण पाये जाते है । इसके लिए रेवंदचीनी पाउडर का सेवन दूध या पानी में मिलाकर किया जा सकता है।

पेट के कीड़े खत्म करने में सहायक (Revandchini beneficial in killing the worms of stomach in Hindi):

रेवंदचीनी अपने कृमिनाशक क्रिया के कारण पेट के कीड़ो को खत्म करने के लिए लाभदायक है। यह परजीवी कीड़े और अन्य आंतरिक परजीवियों को शरीर से बाहर निकालने और मारने में मदद करता है। इसके लिए रेवंदचीनी का पाउडर दूध के साथ सेवन करना चाहिए।

कब्ज से छुटकारा में रेवंदचीनी के फायदे (Revand chini Benefit in Fighting with Constipation in Hindi)

कब्ज से छुटकारा पाने के लिए रेवंदचीनी का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद हैं। दस दस ग्राम की मात्रा में एलोवेरा का गूदा, सनाय के पत्ते तथा शुण्ठी के चूर्ण लें। इसमें पांच पांच ग्राम काला नमक और सेंधा नमक मिलाएं। इसमें 3 ग्राम की मात्रा में रेवंदचीनी का चूर्ण (revand chini powder) मिलाकर मिश्रण बनाएं। इस मिश्रण को 1-2 ग्राम लें और इसमें शहद मिलाकर खायें। इससे कब्ज की समस्या में छुटकारा मिलता है।

आंत्र को शुद्ध करने में रेवंदचीनी का इस्तेमाल (Revandchini pures the intestines or bowel movements)

रेवंदचीनी का प्रयोग आंत्र शुद्ध करने के लिए किया जा सकता है जब रेवंद चीनी को ज्यादा मात्रा में लेते है तो ये आंत्र को शुद्ध करने में सहयोग देता है। सेवन से पहले, इसकी मात्रा को जानने के लिए किसी वैद्य से परामर्श करना सही रहेगा।

रक्तस्राव रोकने में फायदेमंद रेवंदचीनी लाभकारी (Revandchini Beneficial in Bleeding in Hindi)

रक्तस्त्राव को रोकने में रेवंद चीनी का प्रयोग किया जा सकता है, इसके पाउडर को लगा लें या इसकी जड़ को पीसकर लेप बनाकर लगा लें।

पाचन तंत्र को मजबूत करने में फायदेमंद रेवंदचीनी (Revandchini Beneficial for Digestive System in Hindi)

रेवंदचीनी का प्रयोग लीवर को मजबूत बनाये रखने में किया जाता है यह पाचन शक्ति को बल देता है और भूख को भी बढ़ाता है। इसके लिए रेवंदचीनी पाउडर को पानी या दूध से लिया जा सकता है, इसका स्वाद अच्छा लगे इसके लिए मिश्री या शहद मिलाकर पी सकते हैं।

मासिक-धर्म या पीरियड्स से सम्बंधित सभी समस्याओं में रेवंदचीनी के फायदे (Revandchini beneficial in periods related issues in Hindi):

रेवन्दचीनी का पाउडर 3 ग्राम की मात्रा में सुबह के समय खाली पेट माहवारी (मासिक धर्म) शुरू होने से लगभग एक सप्ताह पहले सेवन करें और जब मासिक-धर्म शुरू हो जाए तो इसका सेवन बंद कर देना चाहिए। इससे मासिक-धर्म से सम्बंधित सभी समस्या हल हो जाती हैं।

दांतों के दर्द में रेवंदचीनी के फायदे (Benefits of Revand Chini to Get Relief from Dental Pain in Hindi)

दांतों से जुड़ी कई तरह की बीमारियां होती है जैसे दांतों में दर्द, मुंह से बदबू आना दांतों से जुड़ी आम बीमारी है। इन सभी में रेवंदचीनी का प्रयोग करना लाभ दिलाता है। इसके के लिए रेवंदचीनी की जड़ को कूटकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण को दांतों पर मंजन की तरह मलने से दांत का दर्द दूर होता है। इससे दांत-मुंह के अन्य रोग, दुर्गन्ध आदि भी सही हो जाते है।

बवासीर सही करने में रेवंदचीनी के फायदे (Benefits of Revand chini in Piles in Hindi)

मल के साथ खून आता हो तो इसमें रेवंदचीनी से तुरंत राहत मिलती है। रेवंदचीनी की जड़ को पीसकर इसका लेप बवासीर के मस्सों पर लगाएं। इससे बवासीर का दर्द कम होता है। इससे खून आना बंद भी हो जाता है और कुछ दिन में पूरी तरह बवासीर ठीक हो जाता है।

घाव सुखाने में रेवंदचीनी का प्रयोग (Benefits of Revandchini in Healing Wound in Hindi)

घाव जल्दी नहीं ठीक हो तो आप इसके लिए रेवंद चीनी की जड़ को पीसकर घाव पर लगाएं। ऐसा करने से घाव जल्दी भरता है यह एक बहुत असरदार तरीका है।

Liver Strong Capsules For Cleanses, Detoxifies and Purifies The Liver | Fatty Liver | Liver Disorder | Healthy Liver |

Liver Tonic | Liver detox capsule | Liver syrup | liver ki dawa | hepatiis | Jaundice | Alcoholic diseases |