शुंठी या सोंठ के फायदे | shunthi ya sonth ke fayde | benefits of Ginger or Zingiber officinale | sonth ek aushadhi ke roop me |

12:30 pm / staff / 0 comments
Category:
LIVER DISEASES

यहां हम आपको शुंठी या सोंठ के फायदे के बारे में जानकारी दे रहे हैं। उम्मीद है कि यह लेख आपके लिए ज्ञान वर्धक साबित होगा। तो आइए शुरूआत करते हैं

 

अदरक से सोंठ तैयार कैसे होती है?

  • अदरक जब पूरी तरह परिपक्व हो जाये तब उसे खेत से निकालें या बाजार या सब्जी मंडी से खरीद लायें।।
  • धब्बे रहित सफेद अदरक का चयन सोठ बनाने हेतु करें।
  • अच्छे पानी से दो-तीन बार साफ करके मिट्टी निकाल लें।
  • बांस के चाकू से अदरक के ऊपरी सतह से पतले छिलके निकाल लें।
  • इसे पानी में 24 घंटे तक डुबोकर रखें अदरक की सतह से 30 से.मी. ऊपर तक पानी रखें।
  • इसे नींबू के रस से मिले पानी में कई बार धोयें। 600 मि.ली. रस 30 लीटर पानी में डालकर घोल बनाया जा सकता है।
  • इसे निकाल कर चूने के घोल में जब तक डुबोयें (1 किलो चूना 120 लीटर पानी) जब तक चूने की परत उस पर ना आ जाये।
  • इसके बाद इसे धूप में सुखाये तथा टाट की पट्टियों से रगड़ कर बचे छिलके निकाल लें लीजिये आपकी सोंठ तैयार है।

shunthi ya saunth ke fayde

शुंठी या सोंठ के फायदे:

सोंठ के फायदे (shunthi ya sonth Ke Fayde) की बात करें तो अदरक (Ginger) की तरह ही सोंठ में कैल्शियम, मैग्नीशियम, फाइबर, सोडियम, विटामिन ए और सी, जिंक, आयरन, फोलेट एसिड, फैटी एसिड,पोटेशियम जैसे पौषक तत्व भारी मात्रा में पाए हैं। जो हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने के साथ हमारे शरीर को मौसमी बीमारियों जैसे कि खांसी,जुकाम, बुखार जैसी बीमारी के अलावा माइग्रेन जैसे अन्य गंभीर रोगों से बचाती है। इसका उपयोग हम निम्नलिखित समस्याओं के समाधान के लिए कर सकते हैं:

लिवर के लिए फायदेमंद है सोंठ: 

यह लिवर के बीमार होने के अवसर को कम कर देती है, सोंठ का दाल या सब्जी के साथ सेवन कर सकते हैं लिवर को स्वस्थ रखने के लिए इसके चूर्ण को दूध के साथ पी सकते हैं।

खांसी में लाभ मिलता है:

अगर आपको बार-बार खांसी हो रही हो तो ऐसे में गुनगुने पानी या दूध के साथ एक चुटकी सोंठ के चूर्ण का इस्तेमाल रोजाना करने से लाभ होता है।

ठंड से दर्द हो तो:

अगर ठंड की वजह से छाती या सीने में दर्द है, तो ऐसे में सोंठ की चाय पीने और सोंठ को कपड़े में बांधकर गर्म करके सीने की सिंकाई करने से दर्द से आराम मिलती है।

 

वजन घटाने में मददगार:

सूखी अदरक यानी सोंठ पाचन में सुधार करके वजन घटाने में मदद करती है। सौंठ चर्बी ( फैट) को बर्न करने और रक्त में ग्लूकोज की मात्रा को नियंत्रित करने में सहायक होता है। सोंठ खाने से भूख नियंत्रित रहती है सोंठ का इस्तेमाल करने से काफी देर तक भूख नहीं लगती है जिससे खाने को सही तरीके से पचाया जा सकता है। सोंठ के पाउडर को पानी या दूध में मिलाकर पीने से वजन नियंत्रण में रहता है और इस तरह से यह वजन को संतुलित और कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

बुखार से छुटकारा दिलाने में सहायक:

सोंठ का सेवन करने से शरीर में गर्मी पहुंचती है और पसीना होता है। बुखार में इसके दूध का सेवन करने से शरीर का तापमान कम होता है और शरीर के विषैले पदार्थ बाहर निकालते हैं। सोंठ के दूध में थोड़ी सा शहद मिलाकर दूध और ज्‍यादा पौष्‍टिक बनाया जा सकता है।

 

पाचन शक्ति बढ़ाने में सहायक:

सोंठ का चूर्ण पुरानी से पुरानी अपच की समस्या के कारण होने वाले पेट दर्द और पेट संबंधी सभी परेशानी को दूर करने के लिए जाना जाता है। सोंठ का पाउडर पेट की समस्याओं को कम करने में मदद करता है।

कब्ज ठीक करने में सहायक:

सोंठ पाउडर का इस्तेमाल करने से कब्ज की समस्या से भी छुटकारा मिलता है।

स्फूर्ति देने में सहायक:

महिलाओं के लिए डिलीवरी होने के बाद सोंठ के लड्डुओं का सेवन पेट को साफ करके शरीर को स्फूर्ति प्रदान करने में मदद करता है।

माइग्रेन में लाभकारी:

सोंठ का सेवन करने से सिरदर्द के अलावा माईग्रेन की वजह से होने वाले दर्द में राहत मिलती है। क्योंकि सोंठ में आयरन, फाइबर जैसे पौषक तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं । जिसकी वजह से शरीर का ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है और मस्तिष्क में ऑक्सीजन सही मात्रा में पहुंचती है। सोंठ को खाने में मिलाकर सेवन करने से अल्जाइमर से छुटकारा मिलता है।

 

गले की खराश मिटाने में सहायक:

मौसम बदलने की वजह से अगर गले में खराश हो गई हो तो भी सोंठ बेहद गुणकारी माना जाता है। इसे रोज रात में दूध में मिला कर पीने से कुछ ही दिनों में गले की खराश गायब हो जाती है। यह गले के संक्रमण या इंफेक्‍शन को भी दूर करता है।

हिचकी से भी दिलायें छुटकारा:

यदि आपको हिचकी आ रही है और वह बहुत देर से रुक नहीं रही हैं तो, सोंठ को दूध में उबालकर, ठंडा करके पीने से वह कुछ ही मिनट में ही इस समस्या से छुटकारा मिल जाता है। पसलियों में दर्द होने में भी इसे पीने पर लाभ होता है।

 

जोड़ों के दर्द में लाभदायक:

जोड़ों में दर्द होने पर है सोंठ बेहद लाभकारी सिद्ध होती है। रात में सोने से पहले दूध में अगर सोंठ डाल कर पिया जाए तो कुछ ही दिनों में आपको जोड़ों के दर्द से आराम मिल जाएगा साथ में अगर आप सोंठ और गरम पानी के साथ शहद डाल कर पिएंगे तो भी आपको गठिया में लाभ होता है।

पीरियड्स के दर्द में लाभकारी:

सोंठ का इस्तेमाल पीरियड्स के समय होने वाले पेट दर्द के साथ साथ शरीर के दर्द में भी आराम पहुंचाता है.

Healthy Liver Medicine | Ayurvedic Liver medicine | Liver Medicine No Side Effects | Fatty Liver Ayurvedic Capsule | Liver detox

Digestion Tablets Liver Bestie | Digestion Capsule | Digestion problem | Digestion Best syrup | digestion remedies | Liver problem | Liver Disorder |