गठिया का इलाज | जोड़ों के दर्द की असरदार टैबलेट | 500Mg 100% आयुर्वेदिक दवा

$ 43.61

  • 100% आयुर्वेदिक गठिया का इलाज।
  • कोई दुष्प्रभाव नहीं 100% सुरक्षित और असरदार।
  • 9 सिद्ध आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के मिश्रण से बनाई गई।
  • जोड़ों के दर्द का रामबाण इलाज।
  • शरीर में स्वाभाविक रूप से काम करके समस्या की जड़ को खत्म करने में सक्षम।
  • जोड़ों का दर्द, पीठ का दर्द, घुटने का दर्द, उंगलियों का दर्द से राहत पाने का असरदार उपाय।
  • इसमें सूजन-रोधी गुण होते हैं, जो सूजन से राहत पाने में सक्षम है।
  • हड्डियों और मांसपेशियों की ताकत बढ़ाती है।
  • जोड़ों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने और पुनर्जीवित करने में सक्षम।
  • जोड़ों की कार्य क्षमता और गतिशीलता बढ़ाता है।
  • आवश्यक एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण हैं।
  • 100% शाकाहारी टैबलेट।
  • स्थायी परिणामों के साथ 100% संतुष्टि की गारंटी।
  • कठोरता और गतिहीनता को रोकता है।
  • टखने के दर्द के उपचार में प्रभावी।
  • प्रतिदिन 2 गोलियों का सेवन करें।
  • 1 सुबह नाश्ते के बाद और 1 रात के खाने के बाद।
  • नीचे ‘Add To Cart’ के बटन पर क्लिक करके आर्डर करें।
  • कैश ऑन डिलीवरी (COD) की सुविधा उपलब्ध।
  • कोई अतिरिक्त चार्ज नहीं फ्री डिलीवरी।
  • आज ही आर्डर करें!

Description

आजकल के समय में गठिया का इलाज ढूंढ पाना बहुत मुश्किल हो गया है

क्योंकि बाजार तरह-तरह की दवाइयों से भरा हुआ है जिसमें से असरदार और सुरक्षित दवा खोज पाना अपने आप में ही एक मुश्किल काम है

कुछ अंग्रेजी दवा तो ऐसी भी होती हैं जिनका सेवन जब तक करते हैं तक आराम मिलता है और उनका सेवन छोड़ने के बाद वापस पुरानी वाली स्थिति में लौट जाते हैं

इसके साथ कुछ अंग्रेजी दवाएं बहुत से दुष्प्रभाव दिखाती हैं

तो हमेशा अपनी बेहतर सेहत और स्वास्थ्य के लिए आयुर्वेदिक दवा ही चुने क्योंकि यह कभी कोई दुष्प्रभाव नहीं दिखाती

इसके साथ आयुर्वेदिक दवा शरीर में स्वाभाविक रूप से काम करती है, समस्या की जड़ को खत्म करती हैं और शरीर को रिकवर करने में मदद करती हैं

आप अपने जोड़ों के दर्द के इलाज के लिए ‘एग्रीप्योर की आर्थरोफेक्ट (Arthrofect)’ का सेवन कर सकते हैं

यह 500Mg की टैबलेट है जो 9 सिद्ध आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के सटीक मिश्रण से बनाई गई है

जो बिना किसी दुष्प्रभाव के आपका जोड़ों का दर्द जड़ से खत्म करने में सक्षम है

आइए एग्रीप्योर की आर्थरोफेक्ट (Arthrofect) में इस्तेमाल होने वाली आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों की जानकारी विस्तार से देखें

एग्रीप्योर की आर्थरोफेक्ट (Arthrofect) में इस्तेमाल होने वाली जड़ी बूटियों की जानकारी | गठिया का इलाज

#1 रसना एक्सट्रेक्ट (Venda Roxburghii)

रसना एक्सट्रेक्ट, गठिया का इलाज

गठिया का इलाज करने के लिए रसना बहुत जरूरी आयुर्वेदिक जड़ीबूटी है।

यह एक प्राचीन आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जिसके कई सारे चिकित्सा लाभ हैं।

आयुर्वेदिक दवाएँ बनाने के लिए रसना का पूरा पौधा और विशेष रूप से इसकी पत्तियां इस्तेमाल की जाती हैं।

इसके साथ रसना चाय, सूप, जूस, इत्यादि बनाने में भी इस्तेमाल किया जाता है।

रसना में सूजन खत्म करने वाले गुण भी होते हैं जो गठिया रोग को जड़ से खत्म करने में कारगर है।

रसना कई सारे दर्द से निजात पाने में भी इस्तेमाल किया जाता है, जैसे घुटनों का दर्द, जोड़ों का दर्द, शरीर का दर्द, मांसपेशियों का दर्द, आदि।

यह पौधा भारत, तिब्बत, अमेरिका, और अफ्रीका में पाया जाता है।

रसना की विशेषताएं

  1. यह आपके शरीर के दर्द में राहत पहुंचाने का काम करता है।
  2. जोड़ों के दर्द को कम करता है और जोड़ों के सूखापन को खत्म करके गठिया का इलाज करता है।
  3. इसमें सूजन-रोधी गुण होते हैं, जो सूजन से राहत पाने में असरदार है।
  4. इसमें एंटी एजिंग गुण होते हैं।
  5. गठिया दर्द के इलाज में इस्तेमाल किया जाता है।
  6. न्यूरोलॉजिकल विकारों को ठीक करने में सक्षम है।
  7. रक्त को शुद्ध करने में इस्तेमाल किया जाता है।
  8. यह आपके पाचन तंत्र से जुड़ी समस्याओं को सुधारने में सक्षम है।
  9. इसके साथ ही यह अभी सांस लेने की समस्या को ठीक करने में सक्षम है, जैसे सीने का दर्द, अस्थमा, आदि।

#2 निर्गुण्डी एक्सट्रेक्ट (Vitex Negundo)

निर्गुण्डी एक्सट्रेक्ट, ganthia ka ilaj

निर्गुण्डी एक बड़ा झाड़ी है, जो ‘फाइव-लीव्ड चैस्ट ट्री’ के नाम से मशहूर है।

यह आयुर्वेदिक जड़ी बूटी आमतौर पर भारत व अफ्रीका में पाई जाती है।

निर्गुण्डी का इस्तेमाल आयुर्वेदा में ‘दर्द निवारक’ के रूप में किया जाता है।

यह आयुर्वेदिक जड़ी बूटी आपके जोड़ों और गठिया के दर्द पर काबू पाने में मदद करती है।

निर्गुण्डी की विशेषताएं

  1. पुराने गठिया का इलाज करने में सक्षम है।
  2. इसमें सूजन-रोधी गुण होते हैं।
  3. जोड़ों का दर्द और गठिया दर्द को काबू करता है।
  4. सूजन खत्म करता है।
  5. इसमें एंटीऑक्सीडेंट जैसे गुण भी पाए जाते हैं।
  6. मांसपेशियों की ऐंठन से राहत पाने में मदद करता है।
  7. आपके पाचन तंत्र को बेहतर बनाता है।
  8. बुखार को भी ठीक करता है।
  9. चिंता और तनाव को दूर करता है और साथ ही आपको बेहतर नींद दिलाता है।

#3 शुद्ध गुग्गुल एक्सट्रेक्ट (Commiphora Mukul) | गठिया का इलाज

शुद्ध गुग्गुल एक्सट्रेक्ट, गठिया का इलाज

यह भी एक प्राचीन आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जिसके कई सारी चिकित्सा विशेषताएं हैं, जो कभी कोई दुष्प्रभाव नहीं दिखाती।

गुग्गुल, कॉमिपोरा मुकुल वृक्ष का सूखा हुआ राल है, जो मुख्य रूप से भारत में ही पाई जाती है।

इसके साथ गूगल ऑस्टियोआर्थराइटिस (Osteoarthritis) के दर्द को खत्म करने में भी सक्षम है।

बहुत सारे शोधकर्ताओं ने यह बात साबित भी की है, कि गूगल घुटनों के दर्द का आयुर्वेदिक उपचार है। [1]

शुद्ध गुग्गुल की विशेषताएं

  1. संधिशोथ और ऑस्टियोआर्थराइटिस से राहत पाने में मदद करता है।
  2. जोड़ों के दर्द से राहत पाने में मदद करता है।
  3. शरीर का अतिरिक्त वजन कम करता है।
  4. कोलेस्ट्रोल का स्तर कम करता है।
  5. शरीर की सूजन कम करता है।
  6. इसमें एंटीऑक्सीडेंट, एंटी फंगल, और कैंसर विरोधी गुण जैसे गुण पाए जाते हैं।
  7. मसूड़े की सूजन को कम करता है।
  8. त्वचा के छालों को कम करता है।

Buy Now! arthofect

#4 बाला एक्सट्रेक्ट (Sida Cordifolia)

बाला एक्सट्रेक्ट, ganthia ka ilaj

बाला एक्सट्रेक्ट को ‘सिडा कॉर्डिफोलिया’ के नाम से भी जाना जाता है।

घुटनों के दर्द का देसी इलाज के लिए यह बहुत प्रभावी आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है।

यह एक पौधा है जिसकी जड़, बीज, और पत्तियां आयुर्वेदिक दवा बनाने में इस्तेमाल की जाती है।

बाला एक्सट्रेक्ट की विशेष चिकित्सक गुण के कारण, यह बहुत सी आयुर्वेदिक औषधि बनाने में इस्तेमाल की जाती है।

इसके साथ बाला अर्क हड्डियों, जोड़ों और मांसपेशियों में ताकत बढ़ाता है और उनकी कार्य क्षमता बेहतर करता है।

दूसरे शब्दों में हम यह कह सकते हैं की बाला की मदद से शरीर की ऊर्जा स्तर बढ़ जाता है।

बाला की विशेषताएं

  1. अची जोड़ों (संधिशोथ) के इलाज इस्तेमाल में किया जाता है।
  2. यह आपके शरीर की ऊर्जा बढ़ाता है।
  3. हड्डियों, जोड़ों और मांसपेशियों के कामकाज और ऊर्जा के स्तर में सुधार करता है।
  4. कमजोर हड्डियों (ऑस्टियोपोरोसिस) को सुधरता है।
  5. इसमें सूजन-रोधी गुण होते हैं।
  6. इसके साथ ही यह टिशू में दर्द और सूजन से राहत दिलाता है।
  7. शरीर का अतिरिक्त वजन कम करता है।

#5 शल्लकी एक्सट्रेक्ट (Boswellia Serrata)

शल्लकी एक्सट्रेक्ट, गठिया का इलाज

यह भी एक प्राचीन आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है और यह कई सारी बीमारियों के उपचार में उपयोग की जाती है।

शल्लकी, बोसवेलिया सेराटा और ‘भारतीय लोबान’ के नाम से भी प्रसिद्ध है।

यह आयुर्वेदिक जड़ी बूटी बोसवेलिया सेराटा नाम के वृक्ष से बनाई जाती है।

शल्लकी पुरानी सूजन और पुराना गठिया का इलाज की स्थिति के स्थाई इलाज में बहुत प्रभावी है।

इसके साथ ही यह आयुर्वेदिक जड़ी बूटी जोड़ों का दर्द, सूजन को कम करना, और जोड़ों की कार्य क्षमता बेहतर करने में मददगार है।

इसलिए हम यह कह सकते हैं शल्लकी गठिया का इलाज करने में सबसे कारगर आयुर्वेदिक दवा है।

इसके साथ शल्लकी एक सुरक्षित आयुर्वेदिक औषधि है जो हमारे शरीर के अंदर स्वाभाविक रुप से काम करती है और कभी कोई दुष्प्रभाव नहीं दिखाती।

शल्लकी की विशेषताएं

  1. सूजन कम करता है।
  2. गठिया का इलाज करता है।
  3. जोड़ों का दर्द और गठिया का दर्द खत्म करता है।
  4. शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है।
  5. इसमें एंटी कैंसर जैसे गुण होते हैं।
  6. यह सांस लेने की समस्या जैसे अस्थमा से राहत दिलाता है।
  7. आपको खुश बनाए रखता है।

#6 अश्वगंधा एक्सट्रेक्ट (Withania Somnifera) | गठिया का इलाज

अश्वगंधा एक्सट्रेक्ट, ganthia ka ilaj

नियमित रूप से अश्वगंधा का सेवन करने से आप कभी भी थका हुआ महसूस नहीं करेंगे।

क्योंकि अश्वगंधा आपके अंदर ऊर्जा का स्तर बढ़ा देता है और हम यह भी कह सकते हैं अश्वगंधा आपको एक नया जीवन प्रदान करता है।

अश्वगंधा एक प्राचीन आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जो बहुत सी आयुर्वेदिक चिकित्सा समस्याओं को सुधारने में सक्षम है।

जिसमें से जोड़ों का दर्द गठिया का इलाज मुख्य है।

अश्वगंधा की विशेषताएं

  1. मांसपेशियों की ताकत को बढ़ाता है।
  2. शरीर का धीरज का स्तर (Endurance Level) बढ़ाता है।
  3. शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है।
  4. मस्तिष्क के स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है और उसकी कार्य क्षमता बढ़ाता है।
  5. टेस्टोस्टरॉन के स्तर को बढ़ाता है।
  6. ब्लड शुगर लेवल को कम करता है।
  7. कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करता है।
  8. शरीर की ऊर्जा बढ़ाता है और कभी थका हुआ महसूस नहीं होने देता।
  9. चिंता तनाव को कम करता है और आपको खुश बनाए रखता है।
  10. इसमें सूजन-रोधी गुण होते हैं, जो सूजन से राहत पाने में असरदार है।

#7 एरंड बीज एक्सट्रेक्ट (Ricinus Communis)

एरंड बीज एक्सट्रेक्ट, गठिया का इलाज

एरंड बीज, ‘अरंडी का तेल का पौधा’ के नाम से भी प्रख्यात है और यह एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है।

यह एक मुलायम लकड़ी का पेड़ है जो ज्यादातर भारत और अफ्रीका के कुछ हिस्सों में पाया जाता है।

इस पेड़ की जड़े, पत्तियां, बीज, और तेल के जबर्दस्त चिकित्सक गुणों के कारण यह आयुर्वेदिक दवाओं के निर्माण में इस्तेमाल किया जाता है।

खास तौर पर यह आयुर्वेदिक जड़ी बूटी शरीर की सूजन को कम करने में मदद करती है जो गठिया के इलाज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

और यह जड़ी बूटी मांसपेशियों के दर्द और पीठ के दर्द में राहत पाने में भी इस्तेमाल की जाती है।

एरंड बीज की विशेषताएं

  1. सूजन कम करने में इस्तेमाल किया जाता है।
  2. इसमें सूजन-रोधी गुण होते हैं।
  3. त्वचा को मॉइस्चराइज करता है और मुंहासे खत्म करता है।
  4. इसमें आवश्यक एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं।
  5. इसके साथ इसमें आवश्यक रोगाणुरोधी गुण हैं।
  6. फंगस संक्रमण से लड़ता है।

Buy Now! arthofect

#8 पुनर्नवा एक्सट्रेक्ट (Boerhaavia Diffusa)

पुनर्नवा एक्सट्रेक्ट, ganthia ka ilaj

पुनर्नवा ‘हॉगवीड’ के नाम से भी जाना जाता है।

यह आयुर्वेदिक जड़ी बूटी में एक अद्भुत क्षमता है, जिसकी मदद से यह आपके पूरे शरीर को फिर से युवा जैसी शक्ति दिलाने में सक्षम है।

पुनर्नवा एक प्राचीन आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है, जो सदियों से उपचार में इस्तेमाल की जाती है।

जिसमें से गठिया की सूजन और जोड़ों का दर्द का उपचार मुख्य है।

पुनर्नवा में सूजन-रोधी गुण होते हैं, जो मांसपेशियों के दर्द और जोड़ों के दर्द से राहत दिलाने में कारगर है।

इसके अलावा, आपको कभी भी पुरानी सूजन-रोधी बीमारियों जैसे रूमेटाइड गठिया (rheumatoid arthritis) जैसी स्थिति पैदा नहीं होने देगा।

पुनर्नवा की विशेषताएं

  1. गठिया के दर्द का इलाज करता है।
  2. पाचन तंत्र सुधरता है।
  3. शरीर से अतिरिक्त वजन कम करता है।
  4. मूत्र विकारों को रोकता है।
  5. जोड़ों के दर्द से राहत पाने में मदद करता है।
  6. सूजन को खत्म करता है।

#9 गोखरू एक्सट्रेक्ट (Pedelium Murex) | गठिया का इलाज

गोखरू एक्सट्रेक्ट, गठिया का इलाज

आपने पहले भी गोखरू का नाम अवश्य सुना होगा क्योंकि यह एक प्रख्यात आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है।

जिसके बहुत सारे शानदार चिकित्सा गुण हैं, जो बिना किसी दुष्प्रभाव के समस्या की जड़ को खत्म करने में सक्षम है।

यह आयुर्वेदिक औषधि ‘ट्रिबुलस टेरिस्ट्रिस’ नामक पौधे से बनाई जाती है, जो कई सारी बीमारियों से निजात दिलाने में सक्षम है।

विशेष रूप से यह आपकी जोड़ों की समस्या खत्म करने और जोड़ों को स्वस्थ बनाए रखने में इस्तेमाल किया जाता है।

इसके साथ गोखरू शरीर के दर्द से राहत दिलाने में भी मददगार है।

आयुर्वेदिक औषधि बनाने के लिए गोखरू की जड़, बीज, फूल, और तना का उपयोग किया जाता है।

गोखरू की विशेषताएं

  1. शरीर की सूजन का इलाज करता है।
  2. हड्डियों के बेहतर कामकाज को बढ़ावा देता है।
  3. टेस्टोस्टरॉन लेवल को बढ़ाता है।
  4. शरीर के अतिरिक्त वजन को कम करता है।
  5. शरीर के दर्द को कम करने में मदद करता है।
  6. इसमें कैंसर विरोधी गुण होते हैं।
  7. दिल से जुड़ी बीमारियों से राहत दिलाने में मदद करता है।

एग्रीप्योर आर्थरोफेक्ट का सेवन कैसे करें

dosage, ganthia ka ilaj

एग्रीप्योर आर्थरोफेक्ट जोड़ों के दर्द के लिए 500Mg की टैबलेट है।

जो वाकई में आप के घटिया के दर्द का इलाज बहुत आसानी से करने में सक्षम है।

आयुर्वेदिक दवाओं की सबसे अच्छी बात यह है की इनके सेवन के साथ आपको कोई सख्त खानपान या जीवन शैली में परिवर्तन करने की जरूरत नहीं है।

तो अपना मनचाहा परिणाम पाने के लिए आपको रोजाना 2 टैबलेट का सेवन करना है।

1 सुबह नाश्ते के बाद और 1 रात्रि भोजन के बाद।

आप इस दवा का सेवन गुनगुने पानी या दूध के साथ कर सकते हैं।

नोट: इस दवा को निर्धारित के अनुसार लें और किसी भी दिन कभी न छोड़ें।

अंतिम शब्द | गठिया का इलाज

अभी खरीदें!, गठिया का इलाज

‘अपने आप पर निवेश करते वक्त कभी ज्यादा नहीं सोचना चाहिए।’

एग्रीप्योर आर्थरोफेक्ट आपके गठिया का इलाज करने के लिए सक्षम है।

यह जोड़ों का दर्द जड़ से खत्म करने के लिए रामबाण इलाज है जो कभी कोई दुष्प्रभाव नहीं दिखाएगा।

साथ ही यह 100% आयुर्वेदिक दवा है जो 9 सिद्ध आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के मिश्रण से तैयार की गई है।

आखिर में, आयुर्वेदा के पास वह हर समस्या का समाधान है जिससे मनुष्य आज के समय में पीड़ित है

इस अवसर को अपने हाथ से ना जाने दें उस विश्वास रखिए हमारी आयुर्वेदिक दवा आपको आपका मनचाहा परिणाम अवश्य देगी।

अभी खरीदें।

Buy Now! arthofect

FAQ

प्रश्न: इस दवा का सेवन कैसे करें?

उत्तर: आपको यह दवा दिन में 2 बार लेनी है, 1  सुबह नाश्ते के बाद और 1 रात्रि भोजन के बाद, आप इस दवा का सेवन गुनगुने पानी या दूध के साथ कर सकते हैं।

प्रश्न: यह दवा गठिया के इलाज के लिए क्या असरदार है?

उत्तर: यह दवा 9 प्राचीन आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के मिश्रण से बनाई गई है जो शरीर में स्वाभाविक रूप से काम करती है और समस्या की जड़ को खत्म करने में सक्षम है।

प्रश्न: क्या हम इस दवा को कैश ऑन डिलीवरी पर ऑर्डर कर सकते हैं?

उत्तर: जी आप इस जवाब को कैश ऑन डिलीवरी पर ऑर्डर कर सकते हैं।

प्रश्न: क्या हमें इस दवा के अलावा कोई अतिरिक्त शुल्क देने की आवश्यकता है?

उत्तर: जी नहीं, आपको किसी भी प्रकार का अतिरिक्त शुल्क देने की आवश्यकता नहीं है।

प्रश्न: क्या यह दवा कभी कोई दुष्प्रभाव दिखाती है?

उत्तर: यह दवा 100% सुरक्षित है और यह किसी भी प्रकार का दुष्प्रभाव नहीं दिखाती है।

Read More

Customer Reviews

Based on 1 review
100%
(1)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
S
S.