Hurry up! 20% Discount on ONLINE Payment

कमर दर्द की देसी दवा kamar dard ki desi dawa: AGGRI-ARTHRO | kamar dard ki ayurvedic dawa |

$ 71.99

उत्पाद के बारे में:

अगर आप कमर दर्द की देसी दवा (kamar dard ki desi dawa) ढून्ढ रहे है तो आप बिलकुल सही स्थान पर हो क्योकि AGGRIPURE की AGGRI-ARTHRO कमर दर्द से जड़ से राहत दिलाती है आइये पहले संझेप में इसकी कुछ जानकारी पता करते है फिर विस्तार से जानेंगे :

  • कमर दर्द से जड़ से राहत दिलाती है।
  • 100% आयुर्वेदिक कमर दर्द की दवा।
  • 19 सिद्ध आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के मिश्रण से बनाई गई।
  • कोई दुष्प्रभाव नहीं 100% सुरक्षित और असरदार।
  • शरीर में स्वाभाविक रूप से काम करके समस्या की जड़ को खत्म करने में सक्षम।
  • जोड़ों के दर्द से राहत ।
  • जोड़ों का दर्द, पीठ का दर्द, घुटने का दर्द, उंगलियों का दर्द से राहत दिलाती है ।
  • हड्डियों और मांसपेशियों की ताकत बढ़ाती है।
  • टखने के दर्द के उपचार में प्रभावी।
  • जोड़ों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने और पुनर्जीवित करने में सक्षम।
  • जोड़ों की कार्य क्षमता और गतिशीलता बढ़ाता है।
Category: Tag:

Description

कमर दर्द की देसी दवा kamar dard ki desi dawa: AGGRI-ARTHRO

इस पोस्ट में हम आपको कमर दर्द की देसी दवा (kamar dard ki desi dawa) AGGRIPURE की AGGRI-ARTHRO बारे में फुल डिटेल्स बताएँगे और कमर दर्द के कारण क्या क्या होते है और इनसे राहत पाने के घरेलु उपाय क्या क्या होते है वो भी बताएंगे

काम करने वाला व्यक्ति हो या फिर आराम करने वाला, कमर का दर्द (Back Pain) किसी को भी परेशान कर सकता है. इस दर्द से उठना-बैठना तो दूर ढंग से सोना भी दुश्वार हो जाता है. बहुत ज्यादा देर तक ऑफिस या घर में बैठने वाले लोग शरीर के अलग-अलग हिस्सों में दर्द महसूस करते हैं. वहीं, खानपान में पोषक तत्वों की कमी हड्डियों को कमजोर बना सकती है जिससे यह तकलीफ होती है.

कैल्शियम, विटामिन की कमी, रूमेटायड आर्थराइटिस, कशेरूकाओं की बीमारी, मांसपेशियों एवं तन्तुओं में खिंचाव, गर्भाशय में सूजन, मासिक धर्म में गड़बड़ी, गलत आसनों के प्रयोग आदि अनेक कारणों से पीठ या कमर में दर्द हो जाता है। महिलाओं में कमर दर्द के कारण भी यही हैं।

kamar dard ki desi dawa2

AGGRI-ARTHRO दवा की विशेषताएं:

  • यह कमर दर्द की असरदार देसी आयुर्वेदिक दवा है ।
  • रूमेटाइड गठिया से राहत दिलाने में मददगार है ।
  • घुटने , गर्दन, पीठ, मांसपेशियों, जोड़ों, हड्डियों, आदि के दर्द से राहत दिलाने में मदद करती है ।
  • यह 19 प्राचीन जड़ी बूटियों से बनी दवा है ।
  • यहाँ तक की पुराने गठिया के इलाज और सूजन से राहत दिलाने में सक्षम है ।
  • शरीर में स्वाभाविक रूप से काम करती है और कभी कोई दुष्प्रभाव नहीं दिखाती है ।
  • जोड़ों की कठोरता और गतिहीनता को रोकने में मदद करती है।
  • आवश्यक एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण के साथ फायदा पहुँचती है ।
  • 100% शाकाहारी और हर्बल दवा है ।

 

बच्चे और किशोर में कमर दर्द के कारण:

बच्चे और किशोर बहुत  से खेलो में एक दूसरे की  पीठ थपथपाते हैं या उसपे तेज प्रहार भी कर सकते है , चाहे चीयरलीडिंग हो या दोस्तों के साथ कुश्ती इनपे पीठ पर चोट लगने की संभावना होती ही है । हालांकि युवा लोगों का शरीर लचीला होता है जो उन्हें चोट से उबरने में मदद करता है, बच्चों और किशोरों में पीठ दर्द काफी प्रचलित है। कारण एक साधारण मांसपेशी तनाव से लेकर अधिक गंभीर और दीर्घकालिक कारकों तक हो सकते हैं।

 

अतिरिक्त वजन अपरिपक्व रीढ़ पर तनाव डालता है, जो पोस्चर को बदल फेंक देता है और पीठ के निचले हिस्से को सीधा रहने के लिए कड़ी मेहनत करता है “इससे पीठ के निचले हिस्से में दर्द हो सकता है और रीढ़ की विकृति, गठिया और फ्रैक्चर जैसी स्थिति भी हो सकती है।”

क्या बदलें:

गतिविधि बच्चों के लिए बहुत अच्छी है, लेकिन सक्रिय रहकर और उच्च पोषण, कम कैलोरी वाले खाद्य पदार्थों के साथ अपनी रसोई को स्टॉक करके अपने बच्चे के वजन को नियंत्रित रखें।

 

युवा वयस्कों में कमर दर्द के कारण:

कई युवा वयस्क अपना अधिकांश दिन कंप्यूटर के सामने बैठकर बिताते हैं। आश्चर्य नहीं कि इस आयु वर्ग के लोगों को नियमित रूप से कमर दर्द की शिकायत रहती है।

खराब मुद्रा (Poor posture)और लंबे समय तक बैठने से रीढ़ और पीठ से जुड़ी मांसपेशियों में खिंचाव होता है, जिससे पीठ के निचले हिस्से में दर्द होता है।” “इसके अलावा, लैपटॉप और टैबलेट का उपयोग करते हुए, कीबोर्ड और स्क्रीन के बीच पर्याप्त जगह नहीं होती है। बहुत से लोग झुक कर बैठते हैं, गोद में गैजेट पर टाइप करते हैं। इससे ऊपरी पीठ दर्द हो सकता है।”

क्या बदलें:

मुद्रा पर काम करें, खासकर कंप्यूटर का उपयोग करते समय। अपनी कोहनी को अपनी कमर के समकोण पर रखें और मॉनिटर को लगभग आंखों के स्तर पर रखें। यह एक सहायक मुद्रा रखता है और कंधों या पीठ के कूबड़ को रोकता है।

मध्यआयु वयस्क में कमर दर्द के कारण:

जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, डिस्क से संबंधित पीठ दर्द के लिए आपकी संवेदनशीलता बढ़ जाती है। रीढ़ की डिस्क के सूखने के कारण यह सबसे अधिक संभावना है, जो नरम और स्क्विशी माना जाता है।” जब एक डिस्क सूख जाती है, तो यह झटके को भी अवशोषित नहीं करती है। और अगर आपका पोस्चर खराब है या आप अपनी पीठ पर अत्यधिक दबाव डालते हैं, तो डिस्क बाहर की ओर धकेली जा सकती है, जिससे दर्द हो सकता है।

क्या बदलें:

डिस्क को खराब होने से बचाने का एक तरीका व्यायाम को बढ़ाना है। movement रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है, महत्वपूर्ण पोषक तत्वों को रीढ़ की हड्डी में ले जाता है।

धूम्रपान आपकी पीठ की समस्याओं की संभावना को दोगुना या तिगुना कर सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि सिगरेट में मौजूद निकोटिन रक्त वाहिकाओं को संकुचित कर देता है और रीढ़ की हड्डी में परिसंचरण को कम कर देता है।

वरिष्ठ में कमर दर्द के कारण:

इस उम्र में आपकी पीठ सहयोग करने से इंकार कर सकती है। इस उम्र में आपकी पीठ में दर्द होने की संभावना गठिया जैसी समस्याओं से होती है, जो कुशनिंग कार्टिलेज और रीढ़ में डिस्क को तोड़ देती है, या ऑस्टियोपोरोसिस, जो हड्डियों को कमजोर कर देती है और कशेरुक में संपीड़न फ्रैक्चर का कारण बन सकती है।

हम उम्र के रूप में, हम रीढ़ की हड्डी के साथ-साथ हड्डी के द्रव्यमान के लचीलेपन को खो देते हैं।

जब हम झुकते या उकड़ू बैठते हैं, तो हमारे पास लचीलापन नहीं होता है और हम अपनी पीठ पर दबाव डालते हैं।”

क्या बदलें:

कम प्रभाव वाले व्यायाम की तलाश करें जो आपकी हृदय गति को बढ़ाता है, और आपको लचीला रखने के लिए स्ट्रेचिंग, हड्डी के द्रव्यमान के निर्माण के लिए भारोत्तोलन गतिविधि, और आपके पेट में मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए मुख्य कार्य और पीठ के निचले हिस्से को शामिल करता है जो रक्षा करता है और अपनी रीढ़ का समर्थन करें। आपको इन सभी लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए (और ऊबने से बचने के लिए) अपनी गतिविधियों में बदलाव करने की आवश्यकता हो सकती है, लेकिन कुछ विकल्पों में चलना, पानी एरोबिक्स, लेटा हुआ साइकिल चलाना, योग और पिलेट्स शामिल हैं।

कमर दर्द में राहत के लिए घरेलू उपाय:

हल्दी वाला दूध  (Haldi wala doodh bhi hai kamar dard ki deshi dawa):

एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रिंक्स में हल्दी वाला दूध भी शामिल है. इसे बनाने के लिए एक गिलास दूध में हल्दी मिला लें. अगर आपके पास कच्ची हल्दी (Raw Turmeric) हो तो उसे अदरक की तरह कूटकर डालें. कच्ची हल्दी में किसी तरह की मिलावट नहीं होती और यह दर्द को जड़ से खींचने में सहायक है. इस दूध को रोजाना रात के समय पीना फायदेमंद माना जाता है.

अदरक से कमर दर्द में राहत (Adrak bhi hai kamar dard ki deshi dawa):

अदरक को कमर दर्द में राहत पाने में औषधी की तरह काम करता है। इसलिए जब भी कमर का दर्द सताए अदरक को विभिन्न तरीकों से इस्तेमात करें, जैसे कि अदरक का पेस्ट बनाकर दर्द वाली जगह पर लगायें (kamar dard ka ilaj)। ऊपर से नीलगिरी का तेल लगा लें या ताजा अदरक के 4-5 टुकड़े लें

लहसुन की 3-4 कलियों से कमर दर्द में राहत (Lahsun ki kaliya bhi hai kamar dard ki deshi dawa):

कमर दर्द का इलाज करने के लिए रोज सुबह खाली पेट लहसुन की 3-4 कलियों का सेवन करना शुरु कर दें। इससे सिर्फ कमर को ही नहीं बल्कि शरीर के कई अहम हिस्सों को फायदा होगा। लहसुन का तेल बनाने के लिए नारियल के तेल या सरसों के तेल या तिल में तीन लहसुन की कलियाँ डालें। अब इसे तब तक उबालें जब तक कि लहसुन की कलियाँ काली न पड़ जाएँ। अब इसे तेल को छान लें और ठण्डा होने दें। अब लहसुन का तेल से मसाज करें। कमर दर्द से आराम मिलता है।

फिजिकल एक्टिविटी: 

बहुत ज्यादा बैठे या लेटे रहने के कारण भी कमर में दर्द की दिक्कत हो जाती है. किसी ना किसी तरह की फिजिकल एक्टिविटी करते रहें. यहां से वहां टहलें. बैठे-बैठे सब्जी काटने की जगह खड़े होकर काटें, दिनभर ऑफिस में पानी भरने के बहाने यहां से वहां चलें, पार्क जाकर सैर करें ये फिर एक्सरसाइज, योगा और एरोबिक्स के लिए वक्त निकालें.

 

कमर दर्द की देसी दवा kamar dard ki desi dawa (AGGRI-ARTHRO) की मुख्य सामग्री:

  • भुई आंवला
  • अलोवेराएलोवेरा
  • कुटकी
  • भांगरा
  • चिरायता
  • मुलेठी
  • शरपुंखा
  • रेवन्दचीनी
  • कासमर्द
  • मकोय
  • कासनी
  • पुनर्नवा
  • पटोल
  • पित्तपापड़ा
  • अडूसा
  • चाभ
  • बिंदाल
  • करीरा
  • शुंठी

कमर दर्द की देसी दवा kamar dard ki desi dawa (AGGRI-ARTHRO) का सेवन कैसे करें?

Agripure की Aggri-arthro की 1 बोतल में 60 टैबलेट होते हैं जो 30 दिनों के लिए पर्याप्त होते हैं।

वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए आपको Aggri-arthroकी 1 गोली सुबह नाश्ते के बाद और 1 गोली रात को खाने के बाद लेनी है।

इसके अलावा, आप इन गोलियों को गुनगुने पानी या दूध के साथ ले सकते हैं।

नोट: इन गोलियों का बिना किसी अंतराल के निर्धारित अनुसार सेवन करें।

 

एग्रीप्योर(AGGRIPURE) कौन है?

  • एग्रीप्योर 100% आयुर्वेदिक और हर्बल सप्लीमेंट्स का अग्रणी निर्माता है।
  • एग्रीप्योर हजारों खुश और संतुष्ट ग्राहकों का विश्वास है।
  • सभी उत्पाद बहुत प्रभावी हैं और वैज्ञानिक रूप से जांचे गए हैं।

और, कभी कोई साइड इफेक्ट न दिखाते हैं।

Aggripure की चिकित्सकीय दृष्टि से सिद्ध कमर दर्द की देसी दवा kamar dard ki desi dawa (AGGRI-ARTHRO) विशेषज्ञों

और डॉक्टरों की देखरेख में बनाई गई है।

इसलिए यह सुरक्षित होने के साथ-साथ प्रभावी भी है।

इसके अलावा, हम अपने गुणवत्ता मानकों के साथ कभी समझौता नहीं करते हैं और लगातार सर्वश्रेष्ठ प्रदान करते हैं।

हम उच्चतम गुणवत्ता मानकों को सुनिश्चित करने के लिए ISO 9001 प्रमाणित, FSSAI प्रमाणित और GMP प्रमाणित हैं।

इसलिए, हमारा उत्पाद सुरक्षा, गुणवत्ता और प्रभावशीलता के मामले में सबसे अच्छा है

और निश्चित रूप से आपको वांछित परिणाम प्राप्त करने में मदद करेगा।

कस्टमर केयर नंबर: 7906127882

kamar dard ki desi dawa8

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.