पेट की चर्बी कम करने की दवा 2020 | आयुर्वेदिक औषधि

आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा
9:00 am / chetan gupta / 0 comments
Category:
Weight Loss

यदि आप आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा की खोज कर रहे हैं, तो आप सही जगह पर हैं क्योंकि इस लेख मैं आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा के बारे में आपके सभी संबंधित संदेहों को और जानकारी देने जा रहा हूं।

इसके साथ में आपको इस लेख के माध्यम से वह आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों की सूची देने जा रहा हूं, जो आपके शरीर के पेट की चर्बी, फैट और मोटापे को कम करने में लाभदायक होगी।

आयुर्वेद की महानता और फायदे

आपको मालूम ही होगा कि प्राचीन भारत कितना महान था और हमारा आयुर्वेद कितना असरदार था।

प्राचीन काल से ही आयुर्वेदिक औषधियों का उपयोग मरीज के उपचार के लिए किया जाता था।

आज के मॉडर्न जमाने में भी आयुर्वेदिक औषधियां बहुत मूल्यवान और समृद्ध हैं कि वह हर परेशानी का इलाज बहुत सहज तरीके से कर सकती हैं।

हमारा आयुर्वेदा इतना महान था कि वह हर परेशानी का इलाज कर सकता था, चाहे वह परेशानी स्वास्थ्य संबंधी हो या मानसिक संबंधी या शारीरिक जीवन शैली के संबंधित।

अगर हम निरंतर ज्यादा समय तक अंग्रेजी दवाओं का सेवन करें तो वह अवश्य कुछ ना कुछ दुष्प्रभाव दिखाती है।

पर आयुर्वेदिक टेबलेट के सेवन का सबसे बड़ा फायदा यह है कि, यह कभी भी कोई दुष्प्रभाव नहीं दिखाता क्योंकि आयुर्वेदिक टेबलेट के कार्य करने की प्रक्रिया स्वाभाविक होती है।

आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा

आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा की मदद से बिना कोई नुकसान के आप कुदरती रूप से अपने मनचाही लक्ष्य को पा सकते हैं।

अगर आपकी जीवनशैली असंतुलित है और आपका कार्य करने का समय गलत है, तो आप बहुत सारी परेशानियों को खुद ही दावत दे रहे हैं।

यह असंतुलन जीवन शैली एक कमजोर पाचन तंत्र की ओर जाता है जो वजन बढ़ाने के लिए जिम्मेदार है।

अगर आप शहरों और मेट्रो सिटीज में रहते हैं तो आयुर्वेदिक हर्ब ढूंढना बहुत मुश्किल होता है, इसके लिए आप आयुर्वेदिक पेट अंदर करने की दवा का सेवन कर सकते हैं।

आयुर्वेदिक फैट कम करने की दवाई आपके शरीर की चर्बी को हटाने में आपकी मदद कर सकती हैं।

तो इस आर्टिकल के माध्यम से मैं आपको वह सभी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के बारे में जानकारी दूंगा जो पेट की चर्बी कम करने की दवा में इस्तेमाल होती है, अगर आप उन्हें पा सकें तो यह बहुत अच्छा है।

अगर आप उन्हें नहीं पा सकते, तो मैं आपको एक असरदार और सुरक्षित आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा का सुझाव भी दूंगा।

इस आर्टिकल को अंत तक जरूरत पड़े क्योंकि अंत में मेरे पास आपके लिए एक बोनस ऑफर है, यह बोनस ऑफर केवल उन्हीं लोगों के लिए है जो इस आर्टिकल को पूरा पड़ेंगे।

महत्वपूर्णआयुर्वेदिक जड़ीबूटि और पेट की चर्बी कम करने की दवा इंफोग्राफिक

आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा infographic
आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा infographic

महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों की सूची जो पेट की चर्बी कम करने की दवा के अंदर मौजूद होनी चाहिए

शिलाजीत

आपने अक्सर शिलाजीत का नाम सुना होगा यह आयुर्वेदिक फैट कम करने की दवाई में अपने प्रभावशालीता के लिए जाना जाती है।

अगर आपके पेट की चर्बी बढ़ने का कारण आपकी स्वस्थ दिनचर्या आलसी जीवन शैली होने और शारीरिक गतिविधियों में कमी है।

फिर शिलाजीत इस फैट की समस्या का एकतरफा समाधान हो सकता है क्योंकि शिलाजीत के सेवन से शरीर में फुर्ती पैदा होती है।

यह आपको एक अद्भुत शक्ति का अनुभव कराता है जिससे शारीरिक कार्य करने की ऊर्जा मिलती है और व्यायाम, योग, शारीरिक श्रम आदि की इच्छा मजबूत होती है।

शिलाजीत के सेवन से स्थाई और बेहतर परिणाम पाने के लिए आप रोजाना शिलाजीत को दूध के साथ ले।

शिलाजीत अक्सर मुख्य रूप से आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा बनाने में इस्तेमाल किया जाता है।

इसके साथ अपनी दिनचर्या में भी सुधार करते रहें जिससे आपको भविष्य में कभी भी कोई गंभीर स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां दूर हो जाती हैं ना हो।

शहद

जैसे कि आप सभी जानते ही होंगे कि शायद प्राकृतिक रूप से तैयार किया जाता है और यह स्वाद में भी बहुत अच्छा होता है।

आपकी जानकारी के लिए, मैं आपके साथ एक दिलचस्प तथ्य साझा करता हूं।

जो भी पदार्थ प्राकृतिक और स्वाभाविक रूप से तैयार किया जाता है उसके कार्य करने का तरीका भी स्वाभाविक और प्राकृतिक होता है और कभी भी कोई दुष्प्रभाव नहीं दिखाते।

दूसरी तरफ जो पदार्थ कृतिम रूप से निर्मित होते हैं, उनका कार्य करने का तरीका भी कृतिम होता है और जिनके निरंतर लंबे समय तक सेवन करने से शरीर में दुष्प्रभाव होना स्वभाविक है।

शहद प्राकृतिक रूप से उत्पादित किया जा रहा है, इसलिए यह हमारे शरीर के अंदर स्वाभाविक रूप से काम करता है।

अगर आप शायद का रोजाना गर्म पानी के साथ सेवन करें तो शहा आपके आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा बन सकता है।

शहद भी आयुर्वेदिक पेट कम करने के लिए दवाई के उत्पादन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

अगर आप अपने संपूर्ण शारीरिक फिटनेस को मजबूत करना चाहते हैं और पेट अंदर करने की दवा के रूप में शहद का उपयोग करना चाहते हैं।

तो शहद का निरंतर रूप से रोज सुबह खाली पेट गुनगुने पानी के साथ सेवन करें।

तुलसी

तुलसी आप को कहीं भी आसानी से मिल सकती है, यह एक असरदार आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है।

जो आमतौर पर आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा के उत्पादन में इसके चिकित्सकीय महत्व के कारण उपयोग की जाती है।

तुलसी की कोमल और ताजी पत्तियों को पीसकर दही के साथ सेवन करने से यह फैट कम करने की दवाई की तरह काम करता है।

इसके बेहतर परिणाम के लिए आप 100 ग्राम गुनगुने पानी में 10 ग्राम तुलसी के पत्तों का रस मिलाकर इस अद्भुत मिश्रण का नियमित रूप से सेवन करें।

यह आपको शरीर के मोटापे, अतिरिक्त वसा और पेट कम करने के लिए दवाई की तरह कम करने में मदद करेगा।

यदि आप मोटापे से पीड़ित हैं, तो आपको बेहतर और प्रभावी परिणामों के लिए एक गिलास गुनगुने पानी में तुलसी के पत्तों के रस की 10 बूंदें और दो चम्मच शहद मिलाकर इस अद्भुत मिश्रण का नियमित रूप से सेवन करें।

अगर आप पूरी इमानदारी और कठोर दृढ़ निश्चय के साथ इस उपाय को कुछ दिनों तक करें तो आपको अवश्य ही अपने पेट की चर्बी की समस्या में कमी देखने को मिलेगी।

Buy Now! garcipan

अमला

आमला आपको पूरे भारत में कहीं भी आसानी से मिल सकता है, आमला एक आयुर्वेदिक औषधि के साथ-साथ एक फल के रूप में भी खाया जाता है और यही इसकी सबसे बड़ी विशेषता भी है।

आंवले के अंदर फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टी प्रचुर रूप से पाई जाती है इसलिए आमला आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा के उत्पादन में इस्तेमाल किया जाता है।

इसके साथ ही आंवला में बहुत सारे विटामिन सी कंपोनेंट्स और एंटी-एजिंग तत्व पाए जाते हैं, जो इसे अद्भुत और अनोखा बनाते हैं।

विटामिन सी और एंटी-एजिंग तत्वों के कारण, यह कमर के दर्द और पीठ के दर्द के इलाज और सुधार में भी मदद करता है।

आमला का नियमित रूप से सेवन करने से यहां हमारे शरीर के पाचन तंत्र को भी अच्छा करता है, इसकी मदद से पाचन तंत्र शक्तिशाली और अच्छी तरह काम करने में समर्थ होता है।

यही कारण है, की आमला मुख्य रूप से पेट अंदर करने की दवा में इस्तेमाल किया जाता है और यही कारण है आंवला एक अति लाभदायक फल है जो आपकी आहार का हिस्सा होना चाहिए।

त्रिफला

पेट कम करने के लिए दवाई और आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों की बात की जाए और उसमें त्रिफला का नाम ना आए ऐसा हो ही नहीं सकता।

यह वजन घटाने के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण और प्रभावी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों है।

जैसा कि त्रिफला के नाम से पता चल रहा है, कि इसमें तीन पदार्थों का मिश्रण है यह तीन पदार्थ तीन फल है।

ये 3 फल हैं-

  • हरड़
  • अमला
  • विभीतकी

आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा में, त्रिफला अपने सफल और प्रभावी रासायनिक गुणों के लिए जाना जाता है।

अगर आप त्रिफला का नियमित रूप से सेवन करते हैं तो यह पेट कम करने के लिए दवाई के तरह तो काम करता ही है साथ ही यह शरीर मैं अन्य लाभ प्रदान भी करता है।

जैसे यह –

  • चर्बी कम करने में
  • फैट कम करने में
  • कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में

शरीर के अंदर मदद करता है।

कैस्टर (अरंडी)

कैस्टर आयुर्वेदिक पेट अंदर करने की दवा के उत्पादन और प्रभावी वजन घटाने के काढ़े बनाने के लिए किया जाता है।

इसके चिकित्सीय गुणों के कारण कैस्टर का उपयोग आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा में किया जाता है।

फैट कम करने की दवाई के तौर पर कास्टर एक महत्वपूर्ण जड़ी बूटी है, इसकी मदद से आप हमेशा के लिए अपना वजन घटाने का आनंद प्राप्त कर सकते हैं।

बेहतर और असरदार काढ़ा बनाने के लिए आप कैस्टर के साथ हींग इस मिश्रण का सेवन कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:

Ayurvedic Fat Burning Tablets | 9 Important Ayurvedic Herbs

विभीतकी

विभीतकी आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा के उत्पादन में मुख्य रूप से इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि इस जड़ी बूटी में महत्वपूर्ण चिकित्सा गुण पाए जाते हैं।

कभी-कभी डायबिटीज के कारण कुछ ऐसी परिस्थिति बन जाती हैं जिनकी वजह से फैट और चर्बी का इकट्ठा होना काबू नहीं किया जा सकता।

तो, विभूति के पास डायबिटीज को नियंत्रित करने का गुण है, और यह डायबिटीज की परेशानी को भी समाप्त कर सकता है।

विभीतकी का नियमित रूप से सेवन करने से मोटापा, चर्बी, फैट, अधिक भजन, आदि का समाधान मिल जाता है और आप स्वस्थ महसूस करते हैं।

यह भी पढ़ें:

Ayurvedic Weight Lose Tablets 2020 | Top 4 Reasons of Weight Gain

जोखर

आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा के उत्पादन में जोखर विशेष और मुख्य रूप से इस्तेमाल किया जाता है।

जोखर के अधिकतम लाभों का आनंद लेने के लिए आप इसे पाउडर के रूप में ले सकते हैं।

बेहतर परिणाम के लिए जोखर और चित्रकामूल को अच्छे से पीसकर उसका एक महीन चूर्ण बना ले।

अब इस चूर्ण को गर्म पानी, नीबू का रस और शहद में मिलाकर इसके मिश्रण का सेवन करें।

बेहतर परिणाम के लिए आप इस मिश्रण को 40 दिन तक सुबह खाली पेट पिए यह बिल्कुल आयुर्वेदिक फैट कम करने की दवाई की तरह काम करेगा।

अगर आप इस मिश्रण का 40 दिन तक जैसे बताया है उसी प्रकार सेवन करते हैं तो आपको स्थाई परिणाम प्राप्त होंगे।

यह आपके शरीर से अतिरिक्त फैट, चर्बी और मोटापा खत्म कर देता है और शरीर को उसके सर्वश्रेष्ठ आकार में बदलने में सहायता प्रदान करता है जैसे कि कोई पेट अंदर करने की दवा कार्य करती है।

अगर आप मोटापे की समस्या को जड़ से खत्म करने के लिए, आपको रोजाना दिन में तीन बार जोखर का आधा-आधा ग्राम चूर्ण पानी के साथ लेना है।

यह भी पढ़ें:

Veg Keto Diet Food List with Ayurvedic medicine

अजमोद

अगर आप अपने फैट, चर्बी और मोटापा की वजह से परेशान है, तो आप अजमोद को रोजाना खाली पेट छाछ के साथ इसका सेवन कर सकते हैं, यह बिल्कुल आयुर्वेदिक पेट कम करने के लिए दवाई के रूप में काम करेगा।

बेहतर परिणाम के लिए सेंधा नमक, अजमोद, जीरा और काली मिर्च को पीसकर पाउडर बना लें।

रोजाना सुबह नियमित रूप से इस चूर्ण को सुबह छाछ के साथ सेवन करें।

यह चूर्ण बहुत प्रभावशाली है. इसकी मदद से आप अपने शरीर के अतिरिक्त फैट, चर्बी और मोटापे को जड़ से समाप्त कर देगा।

अजमोद का पाउडर आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा के समान काम करता है, लेकिन इसका स्वाद बहुत ज्यादा कड़वा होता है और इसका रोजाना सेवन करना बहुत मुश्किल होता है।

आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा मैं इस्तेमाल होने वाली कुछ अन्य महत्वपूर्ण जड़ी बूटियां

  • डिकामली
  • मगसूल
  • पालक
  • माधवी
  • अपामार्ग
  • बरना
  • कुठ
  • कुलथी
  • लुके
  • पीपल, आदि

यह भी पढ़ें:

मोटापा कम करने की दवा | आयुर्वेदिक औषधि

आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा | एग्रीप्योर गार्शिपन प्लस

Ayurvedic AGGRIPURE-GARCIPAN for weight loss
पेट की चर्बी कम करने की दवा

जैसा कि हमने आपको पहले भी बताया था की आयुर्वेदिक दवाओं के कोई दुष्प्रभाव नहीं होते और आयुर्वेदिक दवाओं का असर बहुत प्रभावी और सुरक्षित होता है।

पर अगर आप बाजार में आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा लेने जाएंगे तो लगभग हर दूसरी कंपनी यह बात का दावा करती है कि उसकी दवा असल आयुर्वेदिक है।

पर ऐसा हर बार नहीं होता काफी बार आप नासमझी के कारण गलत दवा का चयन कर सकते हैं।

बेहतर यही होगा कि जब भी आप किसी आयुर्वेदिक दवा को खरीदने का निश्चय करें तो उससे पहले उस दवा की पूरी जांच पड़ताल करें और कस्टमर रिव्यु को अवश्य पढ़ें।

यदि आप अपने शरीर के बढ़े हुए वजन के लिए एक प्रभावी और स्थायी समाधान चाहते हैं, तो एग्रीप्योर गार्शिपन प्लस पेट कम करने के लिए दवाई एक जीवन बदलने वाला उत्पाद हो सकता है।

एग्रीप्योर गार्शिपन प्लस मैं लगभग सभी आवश्यक आयुर्वेदिक  जड़ी बूटियां का मिश्रण पाया जाता है।

यदि आप बच्चे हो या बूढ़े हो या जवान हो, यह आयुर्वेदिक पेट की चर्बी कम करने की दवा हर उम्र के व्यक्ति के लिए कारगर और असरदार साबित होती है।

यह हर उम्र व्यक्ति के शरीर में स्वाभाविक और प्राकृतिक रूप से कार्य करती है और कोई साइड इफेक्ट नहीं दिखाती।

एग्रीप्योर गार्शिपन प्लस ने हर बार अपनी गुणवत्ता और प्रभावशीलता का परिचय दिया है, जो कोई अन्य आयुर्वेदिक पेट अंदर करने की दवा के लिए नामुमकिन बात है।

गार्शिपन प्लस की मदद से आप अपने शरीर का केलर स्टोन लेवल को स्वाभाविक और प्राकृतिक रूप से कम कर सकते हैं।

एग्रीप्योर गार्शिपन प्लस के सेवन की विधि

यह आयुर्वेदिक फैट कम करने की दवाई का आपको दिन में 2 बार सेवन करना है एक टैबलेट सुबह नाश्ते के बाद और एक टैबलेट रात्रि भोजन के बाद।

सर्वोत्तम और बेहतर परिणामों के लिए आप एग्रीप्योर गार्शिपन प्लस का पूरा 3 महीने का पैक लें और पूरा कोर्स पूरे विश्वास के साथ अवश्य पूरा करें।

आप इस लेख को इस अंत तक पढ़ रहे हैं, तो आपके लिए मेरे पास एक बोनस है, अगर आप एग्रीप्रीयर के गार्लिप्सन प्लस (पेट कम करने के लिए दवाई) का 3 महीने का पैक खरीदते हैं तो आपको अपने ऑर्डर पर 10% की छूट मिलेगी।

अधिक जानकारी के लिए, आप कॉल कर सकते हैं: + 91-7906127882 और 3 महीने के पैक पर अतिरिक्त 10% प्राप्त करने के लिए ’10DISC’ कोड का उपयोग करें।

अभी खरीदें!!!

Buy Now! garcipan